शास्त्रीय नृत्य आत्मिक अनुभूति का श्रेष्ठ माध्यम - सौविक चक्रवर्ती - SPIC MACAY Chittorgarh
Headlines News :
Home » » शास्त्रीय नृत्य आत्मिक अनुभूति का श्रेष्ठ माध्यम - सौविक चक्रवर्ती

शास्त्रीय नृत्य आत्मिक अनुभूति का श्रेष्ठ माध्यम - सौविक चक्रवर्ती

Written By Manik Chittorgarh on 27 अप्रैल 2018 | 6:26:00 pm

सादर प्रकाशनार्थ

शास्त्रीय नृत्य आत्मिक अनुभूति का श्रेष्ठ माध्यम - सौविक चक्रवर्ती

चित्तौड़गढ़ 27 अप्रैल 2018

विदेशी धरती पर कई प्रस्तुतियां देने के बाद का अनुभव कहता है कि भारतीयता और भारतीय नृत्यों के भीतर बसी शास्त्रीयता का कोई सानी नहीं है। खासकर लय, गति, आत्मीयता, भावानुवाद, संगीत और रागात्मकता बेमिसाल है। हमें इस विरासत को एक बार करीब से महसूस करने के बाद ही अपनी राय बनानी चाहिए बजाय इसके कि इसके बारे में कोई विचार साझा करें। कथक नृत्य के माध्यम से हमने जीवन के हर पक्ष में एक लय अनुभव की है। यह तय मानकर चलिएगा कि जो जितना बेहतर संगीत के आसपास है उसका जीवन उतना ही संतुलित है। गुड मोर्निंग के बजाय नमस्कार कहने का अपना सुकून है।

यह विचार उभरते हुए कथक नर्तक सौविक चक्रवर्ती ने स्पिक मैके कंसर्ट के दौरान व्यक्त किए। विरासत 2018 के तहत शुक्रवार को लखनऊ घराने के युवा कथक नर्तक सौविक चक्रवर्ती की चित्तौड़गढ़ के दो शैक्षणिक संस्थानो में यादगार प्रस्तुतियां हुईं। पहला आयोजन प्रातः साढ़े आठ बजे सेन्ट्रल एकेडमी सीनियर सेकंडरी स्कूल, चित्तौड़गढ में वरिष्ठ सलाहकार डॉ. खुशवंत सिंह कंग और श्रीमती मीरा जैन द्वारा दीप प्रज्ज्वलन के साथ प्रारंभ हुआ। कलाकारों का स्वागत स्पिक मैके के नए सदस्य अंशुल , रूद्राक्ष , हर्षवर्धन और मिराज सिंह ने माल्यार्पण कर किया।

स्पिक मैके सचिव विनय ने बताया शौमिक की प्रस्तुति विद्यार्थियों के मन को लुभा गई। शिव वंदना के साथ नृत्य की शुरूआत करते हुए उन्होने विद्यार्थियों के इस नृत्य के प्रति जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। बच्चों को कथक नृत्य की सामान्य कलाएं सिखाई अपने साथ नृत्य करवाया, नृत्य की विधाओं जैसे उठान , चक्कर के बारे में बताया। कथक द्वारा हॉकी,फुटबॉल, मित्रता आदि के दृश्य साकार किए। तीन ताल की जानकारी दी। पूरे कार्यक्रम के दौरान उत्सुकता और उमंग देखते ही बनती थी।

नृत्य से कृष्ण-गोवर्धन पर्वत की लीला की आकर्षक झांकी उपस्थित की। कार्यक्रम के अन्त में शौमिक ने होली खेले नंदलाला नामक रचना की सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति से सबका मन मोह लिया। कार्यक्रम मे उनके संगतकार गायक दिनेश पाल, तबले पर बिस्वजीत पॉल और सितार पर चंद्रचुड़ थे। पूरी प्रस्तुति के दौरान विद्यार्थीगण बेहद उत्साहित, प्रेरित एवं भाव विभोर नजर आए। कार्यक्रम का संचालन स्कूली छात्र हर्षवर्धन और राहुल अग्रवाल ने किया। अंत में आभार स्पिक मैके राज्य सचिव महेंद्र नंदकिशोर द्वारा दिया गया। 

दूसरा आयोजन मेवाड़ गर्ल्स कॉलेज, चित्तौड़गढ़ मे दोपहर 3 बजे में हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत शौमिक ने गणेश वंदना से की। प्रस्तुति के दौरान के शौमिक ने विभिन्न पशु पक्षियों की मुद्राओं का सजीव चित्रण नृत्य के माध्यम से कर उपस्थित दर्शकों का मन मोह लिया। अंत में मीरा भजन बसों मेरे नैनं में नंदलाल पर भाव प्रदर्शित किया। मोर की गत पर सभी ने खुशी जताई। कार्यक्रम के दौरान स्पिक मैके वरिष्ठ सदस्य डॉ. राजेश चौधरी, वरिष्ठ सलाहकार और मेवाड़ एज्युकेशन सोसायटी अध्यक्ष गोविन्द गदिया,उपाध्यक्ष संजय कोदली, राष्ट्रीय सलाहकार माणिक, वोलंटियर नजमुल, शैलेश सहित राष्ट्रीय सलाहकार जेपी भटनागर थे।    
  
कृष्णा सिन्हा
 प्रेस सचिव
स्पिक मैके चित्तौड़गढ़
Share this article :

Our Founder Dr. Kiran Seth

Archive

Follow by Email

Friends of SPIC MACAY

 
| |
Apni Maati E-Magazine
Copyright © 2014. SPIC MACAY Chittorgarh - All Rights Reserved
Template Design by Creating Website Published by Mas Template